लोगों की सोच बदलना चाहती हूं कि हम टुकड़े-टुकड़े हैं… जेएनयू हिंसा पर बोलीं VC



जेएनयू विवि की कुलपति ने कहा कि मैं जनता की धारणा को सही करना चाहती हूं कि हम टुकड़े-टुकड़े हैं। उन्होंने कहा कि मैंने पदभार संभालने के बाद किसी को भी इस तरह की बात करते हुए नहीं देखा।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here