fir against digvijay singh in bhopal madhya pradesh in khargone controversial tweet


मध्य प्रदेश में आज पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। भोपाल पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दिग्विजय सिंह द्वारा आज संवेदनशील मुद्दे पर विवादित ट्वीट के बाद धार्मिक उन्माद फैलाने और अन्य धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की।

शिवराज ने भी की थी प्रतिक्रिया

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने आज खरगोन जिले में सांप्रदायिक हिंसा से संबंधित अनेक ट्वीट किए। इस दौरान उन्होंने एक फोटो भी ट्वीट किया था। इसमें दिखाई दे रहा है कि धारदार हथियार और भगवा धारण किए कुछ व्यक्ति एक मस्जिद पर भगवा फहरा रहे हैं। इसके तत्काल बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट किया और कहाकि दिग्विजय सिंह ने ट्वीट के माध्यम से गलत जानकारी दी है। उन्होंने लिखा कि दिग्विजय ने भगवा झंडा फहराने का जो फोटो ट्वीट किया है, वह मध्य प्रदेश का नहीं है। शिवराज ने इसके साथ ही दिग्विजय पर धार्मिक उन्माद फैलाने के षड‌्यंत्र का आरोप लगाया। 

बाद में हटा लिया था ट्वीट

शिवराज चौहान ने यह भी कहा था कि प्रदेश को दंगे की आग में झोंकने की साजिश है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसके बाद से ही माना जा रहा था कि दिग्विजय सिंह के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई हो सकती है। हालांकि दिग्विजय सिंह ने कुछ समय के बाद ट्वीट से इस फोटो को हटा लिया था। भोपाल निवासी प्रकाश पांडे नाम के व्यक्ति की शिकायत पर पुलिस ने यहां दिग्विजय सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 58/22, 153ए (1), 295ए, 465 और 505(2) आदि के तहत मामला दर्ज कर प्रकरण जांच में ले लिया है। 

संबंधित खबरें

बिहार की है फोटो

शिकायतकर्ता ने दिग्विजय सिंह के ट्वीट के स्क्रीनशॉट और अन्य दस्तावेज भी पुलिस को सौंपे हैं। शिकायत में कहा गया है कि दिग्विजय सिंह ने कूटरचित रचनाओं के आधार पर ट्वीट करके और खरगोन की घटनाओं के संदर्भ में हिंदुओं की भावनाओं से खिलवाड़ किया है। साथ ही विभिन्न संप्रदायों और वर्गों में वैमनस्यता का वातावरण बनाने का प्रयास किया है। शिकायत में कहा गया है कि दिग्विजय सिंह द्वारा ट्वीट किया गया फोटो मूलत: बिहार के मुजफ्फरपुर जिले का है।

कांग्रेस नेताओं ने साधी चुप्पी

दिग्विजय सिंह की ट्वीट के बाद आज दिनभर भाजपा नेताओं की तीखी प्रतिक्रियाएं आईं। दूसरी ओर कांग्रेस नेताओं ने इस मुद्दे पर एक तरह से चुप्पी साधकर इस मामले से अलग कर लिया है। इसके पहले प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा था कि दिग्विजय के विवादित ट्वीट मामले में वैधानिक कार्रवाई के संबंध में सरकार विधि विशेषज्ञों से राय ले रही है। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह भ्रम फैलाकर सांप्रदायिक तनाव को हवा देना चाहते हैं। उन्होंने अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर मस्जिद में झंडा फहराने की जो तस्वीर पोस्ट की है, वो मध्य प्रदेश की नहीं है। 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here