Four former CM of Jammu and Kashmir are likely to lose their Special Security Group SSG protection


जम्मू-कश्मीर के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों की सुरक्षा में लगे स्पेशल सर्विस ग्रुप (SSG) का कवर हट सकता है। फिलहाल जम्मू-कश्मीर के चार पूर्व मुख्यत्रियों फारूक अब्दुल्ला, गुलाम नबी आजाद उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को एसएसजी सुरक्षा मिली हुई है। लेकिन अब जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने साल 2000 में बनी इस पूरी यूनिट को छोटा करने का फैसला लिया है।

अधिकारियों के मुताबिक यह फैसला सुरक्षा समीक्षा समन्वय समिति की ओर से लिया गया है। यह वह ग्रुप है जो जम्मू-कश्मीर में महत्वपूर्ण नेताओं की सुरक्षा की देखरेख करता है। पहले इन वीवीआईपी लोगों की सुरक्षा डीआईजी, एसएसपी रैंक का अधिकारी देखता था लेकिन अब इनकी सुरक्षा डीएसपी रैंक का अधिकारी देखेगा। 

हालांकि, अधिकारियों का मानना ​​है कि एसएसजी के आकार को कम करने पर फिर से विचार किया जा रहा है क्योंकि पुलिस बल के कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि इससे एलीट यूनिट की तैयारियों में बाधा आ सकती है। एसएसजी को अब नई जिम्मेदारी दी जाएगी। जिमें उनको मौजूदा मुख्यमंत्रियों और उनके परिवार के सदस्यों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। 

जम्मू-कश्मीर प्रशासन का यह निर्णय ऐसे लिया गया है जब श्रीनगर में कई आतंकी घटनाएं हुईं हैं। गुलाम नबी आजाद को छोड़कर बाकी सभी पूर्व मुख्यमंत्री श्रीनगर में ही रहते हैं। हालांकि, फारूक अब्दुल्ला और आजाद को राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG), जिसे ब्लैक कैट कमांडो भी कहा जाता है, की सुरक्षा मिलती रहेगी। ऐसा इसलिए क्योंकि इन दोनों नेताओं को सरकार की ओर से जेड प्लस सुरक्षा मिली हुई है। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here