Government strict on Car Safety Now at least 6 airbags will have to be provided in 8 seater vehicles


केंद्र सरकार गाड़ियों की सेफ्टी (Car Safety) से जुड़ा एक नया नियम ला रही है। सरकार यात्रियों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए 8 सवारी वाले वाहनों में कम-से-कम छह एयरबैग (Car Airbags) अनिवार्य करने जा रही है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने अपने ट्वीट में कहा कि वाहनों में सवार लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कंपनियों को गाड़ियों में एयरबैग की संख्या बढ़ानी होगी। उन्हें आठ सवारियों तक की क्षमता वाले वाहनों में न्यूनतम छह एयरबैग लगाने को कहा जाएगा। गडकरी के मुताबिक, आठ सवारियों वाले वाहनों में छह एयरबैग को अनिवार्य किए जाने के ड्राफ्ट नोटिफिकेशन को उन्होंने मंजूरी दे दी है।  

अभी तक सिर्फ दो एयरबैग्स अनिवार्य
बता दें कि भारत सरकार सभी यात्री वाहनों में कम-से-कम दो एयरबैग को पहले ही अनिवार्य कर चुकी है। इनमें से एक एयरबैग ड्राइवर के लिए और एक  अगली सीट पर बैठने वाले सहयात्री के लिए होता है। गडकरी ने कहा कि वाहनों की आमने-सामने की टक्कर और बगल से होने वाली टक्कर के असर को कम कर सवारियों को सुरक्षित रखने के लिए यह तय किया गया है कि वाहनों में चार अन्य एयरबैग भी दिए जाएं।

यह भी पढ़ें: महंगे पेट्रोल की टेंशन खत्म! ये हैं सबसे सस्ते इलेक्ट्रिक स्कूटर्स, कीमत ₹28,000 से शुरू

सड़क हादसों में जा रही हजारों जाने
उन्होंने कहा, “पीछे की सीट पर अगल-बगल दो एयरबैग देने और दो ट्यूब एयरबैग देने से सभी सवारियों के लिए सफर को सुरक्षित बनाया जा सकेगा। भारत में मोटर वाहनों को अधिक सुरक्षित बनाने के लिए यह अहम कदम है।” गडकरी ने कहा कि एयरबैग की संख्या बढ़ाने का कदम सभी तरह के और सभी प्राइस सेगमेंट के वाहनों पर लागू होगा। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, वर्ष 2020 में राष्ट्रीय राजमार्गों पर कुल 1.16 लाख सड़क हादसे हुए जिनमें 47,984 लोगों की मौत हुई थी।

यह भी पढ़ें: इन दो गाड़ियों ने बचा ली Maruti Suzuki की ‘इज्जत’, जमकर हुई बिक्री, माइलेज भी शानदार

गडकरी ने पिछले साल एक इंटरव्यू में कहा था कि मुख्यतः छोटी कारों में भी समुचित एयरबैग होने चाहिए ताकि किसी दुर्घटना की स्थिति में उनमें बैठे लोगों की जान बची रहे। उन्होंने कहा था कि सिर्फ ऊंची कीमतों वाली बड़ी कारों में ही कार कंपनियां आठ एयरबैग देते हैं। गडकरी ने कहा था कि छोटी कारें अधिकतर निम्न मध्य वर्ग वाले परिवार ही खरीदते हैं लेकिन उनमें पर्याप्त एयरबैग नहीं होने से सवारियों के हादसा होने पर मौत की आशंका बढ़ जाती है। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here