IPL 2022 Dhoni has stormed on to field of play like Amre before RR vs DC match


दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच शुक्रवार को खेला गया आईपीएल 2022 का 34वां मुकाबला जॉस बटलर के शतक से ज्यादा नो-बॉल विवाद को लेकर सुर्खियों में छाया हुआ है। इस मुकाबले में दिल्ली के कप्तान ऋषभ पंत और कोच प्रवीण आमरे ने जो हरकत की, उसे देखकर अब फैंस को महेंद्र सिंह धोनी की याद आने लगी है। दरअसल आईपीएल में यह पहली बार नहीं हुआ है जब नो-बॉल को लेकर कोच और कप्तान ने अंपायर से बहस की है। इससे पहले भी कई बार इस तरह तरह की घटनाएं सामने आ चुकी है। उनमें से एक में तो ‘कैप्टन कूल’ कहे जाने वाले एमएस धोनी भी शामिल थे, जिन्होंने नो-बॉल को लेकर आमरे की तरह ही बीच मैदान में घुसकर अंपायर से बहस करनी शुरू कर दी थी।

अंपायर के फैसले पर फूटा दर्शकों का गुस्सा, स्टेडियम में लगे चीटर-चीटर

दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच आईपीएल 2022 के 34वें मैच के अंतिम ओवर में हाईवोल्टेज ड्रामा देखने को मिला। यह ड्रामा नो-बॉल को लेकर था, जोकि अंपायर ने नहीं दिया। दिल्ली को जीत के लिए 6 गेंद पर 36 रन बनाने थे। रोवमैन पॉवेल (Rovman Powell) ने पहली तीन गेंदों पर लगातार तीन छक्के लगाकर दिल्ली को मैच के करीब ला दिया। ओबेद मैककॉय की तीसरी गेंद फुल टॉस थी और दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने इसे नो बॉल देने की मांग की।

हालांकि मैदानी अंपायर ने नो बॉल नहीं दिया। इसके बाद कप्तान ऋषभ पंत (Rishabh Pant) ने अपने दोनों बल्लेबाज पॉवेल और कुलदीपर यादव को मैदान से बाहर बुलाने का इशारा कर दिया। वहीं, बल्लेबाजी कोच प्रवीण आमरे मैदान में घुसकर अंपायर से बहस करने लगे। इसके बाद भी अंपायर ने थर्ड अंपायर से मदद नहीं मांगी और आमरे को मैदान से बाहर जाने के लिए कह दिया। आमरे मैदान के बाहर चले गए और इसके बाद मैच दोबारा शुरू हो पाया। उस नो बॉल पर अब जमकर विवाद हो रहा है।

शेन वॉटसन ने नो-बॉल विवाद पर अपनी ही टीम को लगाई फटकार

संबंधित खबरें

ऋषभ पंत और प्रवीण आमरे के अंपायर के साथ हुए इस विवाद के बीच अब फैंस को धोनी की वह हरकत याद आ रही है, जोकि तीन साल उन्होंने की थी। साल 2019 में चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स (Chennai super kings vs Rajasthan royals) के बीच खेले गए मुकाबले के दौरान धोनी भी कुछ इस तरह ही आग बबूला हो गए थे और डग आउट से उठकर मैदान में घुस आए थे और अंपायर से बहस करने लगे थे। उस मैच में अंपायरिंग कर रहे मैदानी अंपायर उल्हास गांधे ने एक गेंद नो-बॉल दी थी लेकिन स्क्वेअर लेग अंपायर ब्रूस ऑक्सनफर्ड के साथ बातचीत करने के बाद उन्होंने अपना फैसला बदल दिया था।

no-ball पर कुलदीप से भिड़े चहल, देखें KUL-CHA की भिड़ंत का वीडियो

 

इसके बाद क्रीज पर मौजूद रविंद्र जडेजा और मिचेल सैंटनर ने अंपायर के इस फैसले पर आपत्ति दर्ज की थी। लेकिन कैप्टन कूल कहे जाने वाले धोनी ने भी उस समय खेल भावना की जमकर धज्जियां उड़ाई थी। धोनी मैदान पर जाने के बाद अंपायर से बहस करने लगे थे। माही की इस हरकत के बाद उनकी भी उस समय खूब आलोचना हुई थी। धोनी ने जो 2019 में किया था, वही एक बार फिर से पंत और आमरे की ओर से देखने को मिला। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here