Is Nepal on its way to Sri Lanka The central bank took a big step – Business News India


नेपाल के केंद्रीय बैंक ने वाहनों और अन्य महंगी या लग्जरी वस्तुओं के आयात पर रोक लगाने की घोषणा की है। यह कदम नकदी की कमी और घटते विदेशी मुद्रा भंडार के कारण उठाया गया है। हालांकि, सरकार ने आश्वासन दिया था कि देश की अर्थव्यवस्था श्रीलंका (Sri Lanka) की तरह गर्त में नहीं जाएगी। वहीं,  सरकार ने असाधारण कदम उठाते हुए केंद्रीय बैंक के गवर्नर महा प्रसाद अधिकारी को निलंबित कर दिया है।

    

नेपाल के वाणिज्यिक बैंकों के अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक के बाद केंद्रीय बैंक नेपाल राष्ट्र बैंक (एनआरबी) ने पिछले हफ्ते ये निर्देश जारी किए। एनआरबी के प्रवक्ता गुणाखार भट्ट ने कहा, ”हमें अर्थव्यवस्था में किसी तरह के संकट के संकेत नजर आ रहे हैं जो मुख्यत: आयात बढ़ने की वजह से हैं। इसलिए हम उन वस्तुओं के आयात को रोकने पर विचार कर रहे हैं जिनकी तुरंत आवश्यकता नहीं है।”

विदेशी मुद्रा भंडार में जुलाई 2021 से गिरावट

संबंधित खबरें

आयात बढ़ने, पर्यटन एवं निर्यात से होने वाली आय की कमी और भुगतान प्रवाह घटने के कारण नेपाल के विदेशी मुद्रा भंडार में जुलाई, 2021 से गिरावट आ रही है। केंद्रीय बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, फरवरी, 2022 तक देश का विदेशी मुद्रा का कुल भंडार 17 प्रतिशत घटकर 9.75 अरब डॉलर रह गया, जो जुलाई, 2021 के मध्य तक 11.75 अरब डॉलर था। नेपाल के वित्त मंत्री जनार्दन शर्मा ने भरोसा दिलाया था कि देश श्रीलंका की राह पर नहीं जा रहा है।

सरकार ने केंद्रीय बैंक के गवर्नर को किया निलंबित, तिमिसिना को कमान सौंपी

आर्थिक संकट का सामना कर रहे नेपाल की सरकार ने असाधारण कदम उठाते हुए केंद्रीय बैंक के गवर्नर महा प्रसाद अधिकारी को निलंबित कर दिया है। अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाने को लेकर अधिकारी और देश के वित्त मंत्री जनार्दन शर्मा के बीच मतभेद पैदा हो गए थे। ‘द काठमांडू पोस्ट’ अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक सरकार ने उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश पुरुषोत्तम भंडारी की अगुवाई में एक समिति का गठन किया था जिसके बाद शुक्रवार को नेपाल राष्ट्र बैंक (एनआरबी) के गवर्नर अधिकारी को निलंबित कर दिया गया।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here