Mohammed Shami discusses with Bowling Coach Paras Mhambrey after Team India comprehensive win in the first odi – वनडे में वापसी के सवाल पर मोहम्मद शमी ने गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे को टोका, बोले


भारत के अनुभवी तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने कहा कि वह वनडे अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों से लंबे समय तक बाहर रहने के बारे में नहीं सोच रहे थे और शांत चित्त के साथ अपने वापसी मैच में उतरे क्योंकि उन्हें पता था कि सफेद गेंद कैसे बर्ताव करती है। सोमवार को इंग्लैंड के खिलाफ वनडे मुकाबला शमी का पिछले लगभग दो साल में इस प्रारूप में पहला मैच था। वह पिछला वनडे नवंबर 2020 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले थे जिसमें भारत 51 रन से हार गया था। मंगलवार को ओवल में 31 रन देकर तीन विकेट चटकाने वाले शमी ने ‘बीसीसीआई.टीवी’ पर गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे के साथ बातचीत में कहा, ”यह छोटा ब्रेक नहीं था, यह तीन साल का ब्रेक था।”

उन्होंने कहा, ”इस ब्रेक को लेकर मेरे दिमाग में कुछ नहीं चल रहा था। मैं टीम के साथ काफी सहज हो गया हूं। हम एक साथ यात्रा करते हैं और लगभग एक दशक से साथ खेल रहे हैं।”

शमी ने कहा, ”सभी को अपना काम पता है और इतना क्रिकेट खेलने के बाद अगर आपके मन में कोई सवाल उठता है तो मुझे लगता है कि यह सही नहीं है।” यह मैच शमी के लिए बेहद महत्वपूर्ण रहा। वह वनडे क्रिकेट के इतिहास में 150 विकेट के आंकड़े तक सबसे जल्दी पहुंचने वाले भारतीय गेंदबाज बने। वह ओवराल तालिका में तीसरे स्थान पर हैं।

शमी ने कहा, ”स्पष्ट मानसिकता के साथ उतरना बेहद महत्वपूर्ण रहा। क्योंकि आपको पहले ही पता था कि आपको क्या करने की जरूरत है, आपको कहां गेंद पिच करानी है, सफेद गेंद कैसा बर्ताव करती है। सभी को मूल चीजें पता होती हैं।”

श्रीलंका के हालात पर बोले सनथ जयसूर्या- नेताओं ने देश का बेड़ागर्क किया, लोकतंत्र की वापसी जरूरी

आशीष नेहरा का आलोचकों को करारा जवाब- विराट कोहली को मौके मिलेंगे, सीधे ड्रॉप नहीं किया जा सकता

उन्होंने कहा, ”लेकिन आपको दिल से साहस दिखाना होता है और अगर आप ऐसे हैं तो आप किसी भी समय किसी भी प्रारूप में खेल सकते हैं।” शमी के अलावा साथी तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 19 रन देकर छह विकेट चटकाए। उन्होंने कहा, ”जैसे ही हमने गेंदबाजी शुरू की तो गेंद रुककर आ रही थी और सीम कर रही थी। यह महत्वपूर्ण हो गया था कि हम लाइन और लेंथ पर नियंत्रण रखें।”

शमी ने कहा, ”हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया (पहले वनडे में), इसी तरह सीरीज की शुरुआत होनी चाहिए, यह उदाहरण है।” शमी ने कहा कि अगर अगले दो मैच में भी हालात ऐसे ही रहते हैं तो अधिक बदलाव करने की जरूरत नहीं है लेकिन अगर विकेट सूखा या धीमा होता है तो रणनीति में बदलाव किया जा सकता है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here