R Ashwin recalls hearing he is finished murmurs and says people wrote him off – Latest Cricket News


भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) की चार साल बाद वनडे टीम में वापसी हुई है। उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 19 जनवरी से शुरू होने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम में चुना गया है। अश्विन का इस साल टेस्ट में काफी शानदार प्रदर्शन रहा है और इसके दम पर वह वनडे टीम में जगह बनाने में सफल रहे हैं। हालांकि, पिछले कुछ सालों में जब वह फिटनेस और चोट की समस्‍या से जूझ रहे थे तो उनका इंटरनेशनल करियर डगमगाया हुआ नजर आ रहा था और लोगों से उन्हें तरह​ तरह के ताने सुनने को मिल रहे थे। उन्होंने खुलासा किया कि जब वह खराब दौर से गुजर रहे थे तब चेन्‍नई में क्‍लब मैच खेलते हुए समय उन्‍होंने ऐसे बयान सुने कि यह आदमी खत्‍म हो गया है। 

अश्विन ने बैकस्‍टेज विथ बोरिया शो में कहा, ‘एक खिलाड़ी के रूप में आप आलोचनाओं से घिरे होते हैं। आपको इससे ऊपर आना होता है। कई लोगों ने मुझे खत्‍म बता दिया था मैं चेन्‍नई में मैच खेलने जाता था तो मैं जोर से पैर रखता था। तब मैंने कई लोगों की बात सुनी, जिन्‍होंने कहा कि यह आदमी आया और इसलिए खेल रहा है क्‍योंकि इसका इंटरनेशनल करियर खत्‍म हो गया है। यह पूरी तरह समाप्‍त हो गया है। मैं इन चीजों को सुनने का आदि हो चुका था। कभी तो इस पर हंसी आ जाती थी तो कभी दुख होता था।’

IND vs SA: वनडे सीरीज के लिए टीम इंडिया का हुआ ऐलान, केएल राहुल होंगे कप्तान, चोटिल रोहित हुए बाहर

35 साल के अश्विन ने साल 2021 का अंत सबसे ज्‍यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज के रूप में किया। उन्‍होंने 9 टेस्ट मैचों में 16.64 की औसत से 54 विकेट लिए है और इसी के चलते उन्हें आईसीसी टेस्ट प्लेयर आफ द ईयर के नॉमिनेट किया गया है। वह इस साल टी20 विश्व कप में भी भारतीय टीम का हिस्सा थे, जहां चार साल बाद उनकी लिमिटेड ओवरों की टीम में वापसी हुई थी। 

ICC Test Rankings: भारत के दिग्गज स्पिनर रविचंद्रन अश्विन का दबदबा कायम, गेंदबाजों और ऑलराउंडर की

अश्विन ने माना कि उन्‍होंने फिटनेस पर काफी ध्‍यान दिया और वापसी के लिए इस काफी काम किया। उन्होंने क​हा, ‘महामारी में रोजाना मैं उठकर खुद से कहता था- यह मायने नहीं रखता कि लोग क्‍या सोचते हैं। मगर यह क्रिकेटर, इसमें कुछ बचा है। और इस तरह मैं नहीं छोड़ना चाहता। यह कड़ा मुकाबला था। मैंने दिन में दो बार ट्रेनिंग की। मैंने निश्चित ही अच्‍छा खाना शुरू किया, बेहतर ट्रेनिंग की और मेरे दिमाग में ज्‍यादा सकारात्‍मकता आई।’ 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here