Supreme Court order on 2006 Meerut Victoria Park Fire Victims Order ADG Rank Officer to Calculate Fair Compensation – India Hindi News



मेरठ के विक्टोरिया पार्क अग्निकांड मामले में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला आया है। कोर्ट ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को उचित मुआवजा देने के लिए एडीजी रैंक के अधिकारी को नियुक्त करने का आदेश दिया है। 2006 में हुए इस भीषण अग्निकांड में 65 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी जबकि 81 लोग गंभीर रूप से झुलस गए थे। हादसे के बाद मृतकों के परिजनों ने प्रशासन के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। घटना के 16 साल बाद आज सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाया है। 

क्या है विक्टोरिया पार्क अग्निकांड?

मेरठ स्थित विक्टोरिया पार्क में दस अप्रैल 2006 को लगे उपभोक्ता मेले में भीषण आग लग गई थी। तीन दिनों तक चलने वाले इस मेले के आखिरी दिन ये हादसा हुआ। जिस वक्त आग लगी उस वक्त मेले में करीब 3 हजार लोग मौजूद थे। जिस वक्त आग लगी उस वक्त आग बुझाने का कोई सामान मौजूद नहीं था। देखते ही देखते आग फैलती जली गई और पूरा का पूरा पंडाल आग के गोले में बदल गया। ये अग्निकांड इतना भयानक हो गया कि कई परिवारों की जिंदगियां बर्बाद हो गई। हादसे के बाद लोगों का प्रशासन पर गुस्सा फूट पड़ा।

संबंधित खबरें

बताया जाता है कि मेले में आग बुझाने का कोई संसाधन मौजूद नहीं था इसलिए वक्त रहते आग को बुझाया नहीं जा सका जिससे आगे फैलती ही चली गई। लोगों ने प्रशासन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की। परिजनों ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर 20-20 लाख रुपये मुआवजे के तौर पर दिए जाने की मांग की थी जिसपर मंगलवार को सुनवाई करते हुए कोर्ट ने आदेश दिया है कि मृतकों के परिजनों को उचित मुआवजे देने के किए एडीजी रैंक के अधिकारी को नियुक्त करने का आदेश दिया है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here