When Ravana Taught Traffic Rules To Teach People On The Roads


आज दशहरा है, तो बात रावण की जरूरी होगी। रावण के अंदर अहंकार की एक बुराई थी। जो उसके पतन का कारण भी बनी। हम लोगों में भी इसी तरह का अहंकार छिपा हुआ है। खासकर जब हम गाड़ी चालते हैं तब कई मौके पर सबकुछ जानने के बाद भी कई गलतियां कर देते हैं। जो बाद में हमारे नुकसान की कारण भी बन जाता है। बीते साल उत्तराखंड में लोगों को यातायात नियमों का पाठ पढ़ाने के लिए पुलिस चौराहों पर 30 सेकेंड के नाटक शुरू किए। इसमें रावण बना कलाकार लोगों को 10 तरह के उल्लंघन छोड़ने के लिए प्रेरित किया। कई राज्यों में इस तरह का कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। कई जगहों पर तक ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले के पीछे यमराज को दौड़ाया जाता है। ताकि लोग ट्रैफिक नियमों को लेकर जागरुक बनें।

गुरुग्राम में रावण के साथ लक्ष्मण भी उतरे

गुरुग्राम में ट्रैफिक की समस्या इतनी बड़ गई थी कि 4 साल पहले और रावण के साथ लक्ष्मण भी सड़क पर उतर आए थे। दशहरे से एक दिन पहले ‘लक्ष्मण’ और ‘रावण’ लोगों को समझाते देखे गए कि अपने जीवन को प्यार करते हैं तो ट्रैफिक नियमों का पालन करना कितना जरूरी है। लोगों को ये संदेश दिया गया कि घर पर उनका कोई इंतजार कर रहा है, इसलिए उनकी खातिर सड़क पर सुरक्षित चलिए। ‘रावण’ को बिना हेलमेट चल रहे गाड़ी चालकों को कहते देखा गया, ‘मेरे तो दस सिर हैं, एक आध कट भी गया तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा, लेकिन तुम्हारा तो एक ही सिर है, इसलिए हेलमेट की अहमियत समझो।’

इस कंपनी के सामने मारुति, हुंडई, टाटा, महिंद्रा समेत 13 कंपनियां फीकी पड़ी; रिकॉर्ड 1825% की ग्रोथ मिली

लोग इन नियमों का करते हैं उल्लंघन

ज्यादातर लोग ट्रैफिक से जुड़े जिन नियमों को तोड़ते हैं उसमें हेलमेट नहीं पहनना, रेड लाइट जंप करना, गाड़ी चलाते समय मोबाइल का प्रयोग, टू-व्हीलर में तीन सवारी का बैठना, बाए से ओवरटेक, नशे में वाहन चलाना, खतरनाक/रैश ड्राइविंग, सीट बेल्ट नहीं पहनना, नो पार्किंग में गाड़ी खड़ा करना, जेब्रा क्रॉसिंग का उल्लंघन करना शामिल रहते हैं।

ट्रैफिक नियम से जुड़ी डिटेल और उन पर लगने वाले जुर्माने को जानने यहां क्लिक करें।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here