You have no heart and You are not good enough S Sreesanth recalls Andre Nel sledge in 2006 Johannesburg Test – Latest Cricket News


इंटरनेशनल क्रिकेट में भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच प्रतिद्वंद्विता के कई यादगार पल रहे हैं, चाहे वो 2006 में ​दक्षिण अफ्रीका में भारत की पहली टेस्ट जीत हो या सचिन तेंदुलकर का 50वां टेस्ट शतक। हालांकि, एक पल जो भारतीय क्रिकेट फैन्स के मन में हमेशा रहेगा, वो है 2006 में जोहान्सबर्ग टेस्ट के दौरान आंद्रे नेल की गेंद पर एस श्रीसंत का छक्का है। उस दौरे पर पहले टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारतीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंत और दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाज आंद्रे नेल के बीच गहमागहमी हो गई थी। श्रीसंत जब बल्लेबाजी करने आए तो आंद्रे नेल ने एक तीखा बाउंसर डाला जो श्रीसंत सिर के पास से गुजरा। इसके बाद नेल ने उनके साथ अभद्रता से बातचीत करते हुए उन्हें सिक्स मारने के लिए उकसाया। लेकिन श्रीसंत भी पूरे तेवर में आ गए और उन्होंने अगली ही गेंद पर क्रीज के बीच में आंद्रे नेल के सर के ऊपर से जबरदस्त छक्का लगा दिया। इस सिक्स के बाद श्रीसंत दोनों हाथ उठाकर बीच मैदान में ही डांस करने लगे। क्रिकेट फैन्स के दिमाग में आज भी वह यादगार पल जीवित है। 

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने रोहित शर्मा की तारीफ कर बताया, टेस्ट क्रिकेट में क्यों इतने सफल हैं ‘हिटमैन’

श्रीसंत ने अब खुलासा किया है कि आंद्रे नेल ने उस दौरान उनसे क्या कहा था। श्रीसंत ने स्पोर्ट्सक्रीड़ा के साथ बातचीत में कहा, ‘बहुत से लोगों को पता नहीं है कि आंद्र नेल ने मुझसे क्या कहा, लेकिन उसने मुझसे बहुत कुछ कहा। पहली पारी में मैंने पांच विकेट लिए थे और जब आंद्रे नेल आउट हुए तो उन्होंने एक छक्का लगाया। वह सचमुच मेरे ऊपर पर था। इसकी शुरुआत तब हुई जब वह बल्लेबाजी कर रहे थे। जब मैं दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने के लिए मैदान पर आया, तो उसने मुझसे कहा ‘तुम पर्याप्त नहीं हो। तुम मुझे सिर्फ मानसिक रूप से परेशान करने के लिए आए हो।’

Ashes 2021-22: बॉक्सिंग-डे टेस्ट में 4 बड़े बदलावों के साथ उतरेगा इंग्लैंड, मैच से एक दिन पहले किया प्लेइंग XI का

पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज ने आगे कहा, ‘वह मेरे पास आया और कहा ‘तुम्हारे पास दिल नहीं है, तुम बहुत अच्छे नहीं हो और भी कुछ बुरे शब्द’, इसलिए जब मैंने उसकी गेंद पर छक्का मारा, तो सभी ने इसे एक डांस बताया। मैं साफ करना चाहता हूं कि यह एक महज डांस नहीं था। यह जश्न मनाने का तरीका था। मैंने वैसा ही किया जो मुझे सही लगा। मैंने कुछ वैसा ही किया, जैसा कि 2002 की नेटवेस्ट ट्रॉफी में सौरव गांगुली दादा ने किया था।’ 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here